समर्थक

शनिवार, 24 जनवरी 2015

हार्दिक शुभकामनाएँ वसन्त पंचमी की



आज वसंत पचमी है। ऋतुराज वसंत के आगमन का प्रथम दिन। वसंत जाड़े के जकड़न और गर्मी की बेचैनी के मध्य  40 दिनों  का माना जाता है।  माघ शुक्ल पंचमी से आरम्भ होकर फाल्गुन मास की पूर्णिमा 'होलिकोत्सव' पर उसका समापन किया जाता है।  मौसम  करवट बदलने लगता है और   बर्फीली ठंडक बिदाई की अंतिम घड़ियाँ गिनने लग जाती  है।   पतझड़ से ठूँठ हुए वृक्षों में  नई कोपलें निकल आती हैं।हरी हरी नरम कोपलें बहुत  ही  मोहक होती  है।  पौधों में सुन्दर सुन्दर नए फूल खिल उठते हैं।पक्षियों का कलरव, भौरों की गुंजार, रंग बिरंगी तितलियों का मंडराना, सरसों के पीले पीले फूल ,  आम की मंजरियों और फूलों की महक से वातावरण  एक  अद्भुद  अलौकिक  मिठास और मादकता  से भर जाता  है। वसंत ऋतु में प्रकृति का सौंदर्य निखर उठता है। इस दिन  विद्या की देवी भगवती सरस्वती का जन्म दिन भी है।

 भगवान श्रीकृष्ण को इस उत्सव का इष्टदेव माना जाता है।  यही कारण  है कि ब्रज प्रदेश में यह उत्सव धूम-धाम से मनाया जाता है। राधा कृष्ण का आनंद-विनोद देखते ही बनता है।आज के दिन स्त्रियाँ अक्सर पीले वस्त्र पहनती हैं।

 उत्तर प्रदेश में इस दिन से फ़ाग उड़ाना और फगुआ गायन आरम्भ हो जाता है। उपले एकत्रित करके होलिका निर्माण की शुरुआत भी आज के दिन से  होती है।  जिसपर लकड़ियाँ रखकर ऊँचाई बढ़ाने  का कार्य होली के दिन तक  निरंतर जारी रहता   है और होली वाले दिन जलाकर होलिका दहन किया जाता है।

इस दिन भगवान विष्णु का पूजन, कामदेव का पूजन, माँ सरस्वती का पूजन किया जाता है।  हिन्दू धर्म में इस दिन को बहुत पवित्र माना गया है।यादव समाज की ओर से   इस पवित्र त्यौहार के शुभ अवसर पर  सबको हार्दिक शुभ कामनाएँ।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णयामि महापुण्यं सर्वपापहरं नृणां ।
यदोर्वन्शं नरः श्रुत्त्वा सर्वपापैः प्रमुच्यते।i
यत्र-अवतीर्णो भग्वान् परमात्मा नराकृतिः।
यदोसह्त्रोजित्क्रोष्टा नलो रिपुरिति श्रुताः।।
(श्रीमदभागवद्महापुराण)


अर्थ:

यदु वंश परम पवित्र वंश है. यह मनुष्य के समस्त पापों को नष्ट करने वाला है. इस वंश में स्वयम भगवान परब्रह्म ने मनुष्य के रूप में अवतार लिया था जिन्हें श्रीकृष्ण कहते है. जो मनुष्य यदुवंश का श्रवण करेगा वह समस्त पापों से मुक्त हो जाएगा.