समर्थक

रविवार, 5 अक्तूबर 2014

सतीश कुमार यादव- हार्दिक बधाई !!


 उत्तर प्रदेश के जिला  बुलंदशहर, गाँव पचौता  के निवासी सतीश  कुमार  यादव को बहुत बहुत हार्दिक बधाई ! सतीश कुमार ने इंचियोन   एशियन गेम्स में भारत की झोली में कांस्य पदक डालकर न केवल देश, प्रदेश, पैतृक जिले, गाँव,  निकट सम्बन्धियों और कुटुंम्ब जनों   का नाम रोशन किया है , बल्कि  यदुवंशियों का  भी गौरव बढ़ाया है। यह पदक उनको मुक्केबाजी में प्राप्त हुआ है।  जीत की खबर मिलते ही सब जगह खुशी की लहर दौड़ गई। जश्न मनाया  जाने लगा।  


सतीश कुमार  गाँव पचौता के रहने वाले किरनपाल यादव के पुत्र हैं। बचपन से ही उनकी खेल में बहुत रूचि थी  किरनपाल यादव के चार पुत्र हैं। सतीश कुमार यादव  दूसरे नंबर के मझले पुत्र  हैं। सतीश की माता जी का नाम गुड्डी देवी और  पत्नी का नाम सरिता देवी है।सतीश यादव सेना में कार्यरत हैं।  इनके बड़े भाई जय प्रकाश भी  सेना में ही  है।  इनसे छोटे दोनों भाई ,जितेंद्र और हरीश सेना में भर्ती होने की तैयारी कर रहे हैं।  उनकी जीत से परिवार के लोग बेहद खुश हैं।  सबको हार्दिक बधाई !

वर्णयामि महापुण्यं सर्वपापहरं नृणां ।
यदोर्वन्शं नरः श्रुत्त्वा सर्वपापैः प्रमुच्यते।i
यत्र-अवतीर्णो भग्वान् परमात्मा नराकृतिः।
यदोसह्त्रोजित्क्रोष्टा नलो रिपुरिति श्रुताः।।
(श्रीमदभागवद्महापुराण)


अर्थ:

यदु वंश परम पवित्र वंश है. यह मनुष्य के समस्त पापों को नष्ट करने वाला है. इस वंश में स्वयम भगवान परब्रह्म ने मनुष्य के रूप में अवतार लिया था जिन्हें श्रीकृष्ण कहते है. जो मनुष्य यदुवंश का श्रवण करेगा वह समस्त पापों से मुक्त हो जाएगा.