समर्थक

रविवार, 23 दिसंबर 2012

स्वागत समारोह

YADAV SAMAJ CHANDIGARH
                             
                                                                           
.                                                                                                   Date 23.12.2012

पंजाब सरकर द्वारा श्री राम नारायण यादव को विधानसभा अध्यक्ष का सलाहकार नियुक्त किये जाने की ख़ुशी में यादव समाज चंडीगढ़ के सदस्यों ने आज सेक्टर 18  स्थित पंचायत  भवन में एक स्वागत समारोह का  आयोजन किया। सदस्यों ने यादव जी  को हार पहना कर और गुलदस्तों के साथ बड़ी गर्मजोशी से स्वागत किया। इस मौके पर सभी वक्ताओं ने यादव जी की उपलब्धियों का गुणगान  किया।

 उल्लेखनीय है कि श्री राम नारायण यादव  परिश्रमी, कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार  व्यक्ति हैं। वह समाज सेवा में भी अग्रणी है। हरियाणा विधान सभा सचिवालय से सेवा निवृत होने के बाद उनकी दक्षता,  कार्य कुशलता, कार्य-क्षमता  को ध्यान में रखकर  पंजाब सरकार ने उनको  विधानसभा अध्यक्ष का  सलाहकार  नियुक्त किया है।  इससे  यादव  समाज  के लोगों  को बहुत प्रसन्नता हुई है। यादव समाज  इस कार्य के लिए पंजाब सरकार , विशेषकर डा. चरणजीत सिंह अटवाल अध्यक्ष पंजाब विधान सभा के  आभारी है। 

इस समारोह में अन्य के अतिरिक्त  चंडीगढ़, पंचकुला और मोहाली मोहाली से राम अचल यादव, राम अवतार यादव, केदार नाथ यादव, मुन्नीलाल यादव, छोटे लाल यादव, श्याम लाल यादव ,वरिष्ठ अधिवक्ता  एस के लाम्बा, राव दिलीप सिंह, महिंदर सिंह यादव, वी पी लाम्बा, हरी नारायण यादव, बाबू  राम यादव, दया राम यादव, श्रीप्रकाश यादव, रघुविंदर यादव, राम वृक्ष यादव, चेयरमैन यादव महा संघ राम मूरत यादव, सर्वेश सिंह यादव, भूपेश यादव, फूल चन्द यादव, शिवमूर्ति यादव  शामिल थे।

                                                                                                      (राम अवतार यादव)
                                                                                                          अध्यक्ष 
                                                                                                    स्वागत समारोह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णयामि महापुण्यं सर्वपापहरं नृणां ।
यदोर्वन्शं नरः श्रुत्त्वा सर्वपापैः प्रमुच्यते।i
यत्र-अवतीर्णो भग्वान् परमात्मा नराकृतिः।
यदोसह्त्रोजित्क्रोष्टा नलो रिपुरिति श्रुताः।।
(श्रीमदभागवद्महापुराण)


अर्थ:

यदु वंश परम पवित्र वंश है. यह मनुष्य के समस्त पापों को नष्ट करने वाला है. इस वंश में स्वयम भगवान परब्रह्म ने मनुष्य के रूप में अवतार लिया था जिन्हें श्रीकृष्ण कहते है. जो मनुष्य यदुवंश का श्रवण करेगा वह समस्त पापों से मुक्त हो जाएगा.